न्यूज़ पोर्टल में खबर अथवा विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें: फोन नंबर:- +917733090099, 9166655956 ईमेल:- crime24newsexpress@gmail.com
अलवरजुर्मपुलिस एंड इंटेलिजेंस

अलवर आरटीओ कार्यालय के बाहर 1500 रूपए दो और 15 मिनट में सरकारी कॉलेज की मार्कशीट,आरसी,ड्राइविंग लाइसेंस बनवा लो।

अलवर आरटीओ कार्यालय के बाहर 1500 रूपए दो और 15 मिनट में सरकारी कॉलेज की मार्कशीट,आरसी,ड्राइविंग लाइसेंस बनवा लो।( एडिटर इन चीफ़ लोकेश वर्मा ) 
अलवर आरटीओ कार्यालय के बाहर 1500 रूपए दो और 15 मिनट में सरकारी कॉलेज की मार्कशीट,आरसी,ड्राइविंग लाइसेंस बनवा लो। (एडिटर इन चीफ़ लोकेश वर्मा )

अलवर 12 जनवरी। 1500 रूपए दो और 15 मिनट में सरकारी कॉलेज की मार्कशीट, आरसी, ड्राइविंग लाइसेंस बनवा लो। अलवर आरटीओ कार्यालय के बाहर दुकानों पर यह खेल लम्बे समय से चल रहा था। अलवर के बाहर चल रहे फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों की आरसी और मार्कशीट बनाने के खेल का सोमवार शाम को पुलिस ने भंडाफोड़ कर दिया। आईपीएस ज्येष्ठा मैत्रेयी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए गिरोह के करीब आधा दर्जन लोगों को हिरासत में लिया है। उनके कब्जे से फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों की आरसी और मार्कशीट तथा कम्प्यूटर आदि जब्त किए गए हैं। पुलिस मामले का अभी खुलासा करने से बच रही है। मंगलवार को पुलिस इस मामले में खुलासा कर सकती है।

सदर थानाधिकारी प्रशिक्षु आईपीएस ज्येष्ठा मैत्रेयी को अलवर आरटीओ कार्यालय के बाहर फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों की आरसी और मार्कशीट आदि बनाने के बारे में सूचना मिली। इसके बाद मामले में पूरी जानकारी जुटाने के बाद सोमवार शाम को आईपीएस मैत्रेयी ने पुलिस टीम के साथ आरटीओ कार्यालय के बाहर स्थित कई दुकानों पर दबिश दी। वहां से करीब आधा दर्जन लोगों को हिरासत में लिया गया तथा मौके से फर्जी दस्तावेज और कम्प्यूटर आदि जब्त कर थाने लाया गया। बताया जा रहा है कि आरटीओ कार्यालय के बाहर कई दुकानों पर से कई फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों की आरसी और मार्कशीट आदि जब्त किए गए हैं। इसके अलावा कम्प्यूटर भी जब्त किए गए हैं, जिनमें से डेटा खंगाला जा रहा है और हिरासत में लिए गए लोगों से इस सम्बन्ध में गहनता से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस ने बनवाई अंकतालिका-
पुलिस ने इस मामले की कई दिन पड़ताल की। बोगस ग्राहक बनकर लाइसेंस और मार्कशीट बनवाई गई। दलाल ने पुलिस के बोगस ग्राहक से 1500 रूपए लेकर काम कर दिया। इन दलालों के पास कॉलेज प्रिंसिपल से लेकर बड़े अधिकारीयों तक की मुहर है। यह फर्जीवाड़ा लम्बे समय से चल रहा था। (रिपोर्टर शुभ दाधीच) 

Related Articles

Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 23,340,938Deaths: 254,197