न्यूज़ पोर्टल में खबर अथवा विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें: फोन नंबर:- +917733090099, 9166655956 ईमेल:- crime24newsexpress@gmail.com
भारत
Trending

Kisan Bharat Bandh किसानों का भारत बंद आज, मोदी सरकार ने जारी की ये एडवाइजरी

Kisan Bharat Bandh किसानों का भारत बंद आज, मोदी सरकार ने जारी की ये एडवाइजरी

Kisan Bharat Bandh किसानों का भारत बंद आज, मोदी सरकार ने जारी की ये एडवाइजरी
Kisan Bharat Bandh किसानों का भारत बंद आज, मोदी सरकार ने जारी की ये एडवाइजरी

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों ने आज भारत बंद का ऐलान किया है. किसानों के समर्थन में कई राजनीतिक दल और ट्रेड यूनियन हैं. इसके मद्देनजर केंद्र सरकार ने एडवाइजरी जारी की है. बता दें कि किसान नेताओं और सरकार के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन अब तक कोई निष्कर्ष नहीं निकला है. 9 दिसंबर को सरकार और किसानों के बीच फिर बातचीत होनी है.

अखिलेश यादव का ट्वीट

किसानों के समर्थन में लखनऊ में प्रदर्शन में हिस्सा लेने के मामले में यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव पर सोमवार को कार्रवाई की गई थी. यूपी पुलिस ने समाजवादी पार्टी के कुल 28 लोगों के खिलाफ कानून व्यवस्था बिगाड़ने के आरोप में एक्शन लिया है. कोविड गाइडलाइन की अनदेखा पर कार्रवाई की गई है. अब अखिलेश का ये ट्वीट आया है.

पंजाब ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन बंद के समर्थन में

पंजाब ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने किसानों के भारत बंद का समर्थन किया है. एसोसिएशन के अध्यक्ष चरणजीत सिंह ने कहा कि ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने किसानों के समर्थन में 8 दिसंबर को चक्का जाम करने का फैसला किया है. परिवहन संघ, ट्रक यूनियन, टेंपो यूनियन सभी ने बंद को सफल बनाने का निर्णय किया है. यह बंद पूरे भारत में होगा.

नए कृषि कानूनों को SC में चुनौती देने की तैयारी

केरल सरकार केंद्र के कृषि कानूनों को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की तैयारी में है. केरल सरकार ने इस हफ्ते ही सुप्रीम कोर्ट में कृषि कानूनों को चुनौती देने का फैसला किया है. राज्य सरकार ने केंद्र के नए कृषि कानून को लागू न करने का निर्णय किया है. सरकार का कहना है कि कृषि केवल केंद्र के अधीन नहीं है, बल्कि राज्य को भी तय करना है. इस पर केंद्र एकतरफा फैसले नहीं ले सकती है.

मंच पर नेताओं की नो एंट्री

किसानों ने सिंधु बॉर्डर पर सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी. इस दौरान किसान नेता निर्भय सिंह धुडिके ने कहा, ‘हमारा विरोध केवल पंजाब तक सीमित नहीं है. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो जैसे दुनिया भर के नेता भी हमें समर्थन दे रहे हैं. हमारा विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण है.’ वहीं किसान नेता डॉ. दर्शन पाल ने कहा कि मंगलवार को पूरे दिन बंद रहेगा. दोपहर 3 बजे तक चक्का जाम होगा. यह एक शांतिपूर्ण बंद होगा. हम अपने मंच पर किसी भी राजनीतिक नेता को अनुमति नहीं देंगे.

CAIT का ऐलान- हम भारत बंद में शामिल नहीं

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) और ट्रांसपोर्ट सेक्टर के शिखर संगठन ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन (ऐटवा) ने कहा कि वो 8 दिसंबर को हो रहे भारत बंद में शामिल नहीं हैं और दिल्ली सहित देशभर के बाजार पूरी तरह से खुले रहेंगे.

गौतमबुद्धनगर में धारा-144 लागू

दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन के बीच गौतमबुद्धनगर में धारा-144 लागू कर दी गई है. गौतमबुद्धनगर प्रशासन ने कोरोना महामारी का हवाला देते हुए धारा-144 लागू की है, जो दो जनवरी 2021 तक लागू रहेगी. इस दौरान नोएडा में बिना इजाजत के जुलूस नहीं निकाला जा सकता है और न कोई चक्का जाम कर सकेगा.

प्रकाश सिंह बादल ने पीएम को लिखा था खत

एनडीए से बाहर हो चुके अकाली दल ने केंद्र से इन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग की है. पंजाब के पांच बार मुख्यमंत्री रहे और शिरोमणि अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग की. उन्होंने पीएम मोदी का पत्र लिखा. प्रकाश सिंह बादल ने कहा, ‘उदारता दिखाएं और तीनों विवादास्पद कानूनों को रद्द करें ताकि देश के सामने खड़े संकट का हल किया जा सके.’ किसानों के इतने बड़े आंदोलन पर बादल ने पीएम मोदी से कहा कि, ‘पहले से ही लगे घावों को ठीक होने में लंबा समय लगेगा.

अब तक 5 राउंड बातचीत हो चुकी है

किसानों और सरकार के बीच अभी तक 5 राउंड बातचीत हो चुकी है, लेकिन गतिरोध जारी है. अब सबकी निगाहें अब 9 दिसंबर को सरकार के साथ होने वाली किसानों पर बातचीत पर टिकी है. हालांकि किसान संगठनों ने सरकार से कहा है कि जब तक नए कृषि कानून वापस नहीं होंगे तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा.

एनडीए में रहना या नहीं, 8 के बाद फैसला-बेनीवाल

एनडीए की सहयोगी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के नेता हनुमान बेनीवाल ने किसानों के 8 दिसंबर के बंद का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी किसानों के भारत बंद के आह्वान का समर्थन करती है. पीएम मोदी को कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए. हम इस बात पर फैसला लेंगे कि 8 दिसंबर के बाद आरएलपी एनडीए में रहेगी या नहीं.

किसान कोर कमेटी की 6 बड़ी बातें…

1- बंद सुबह से पूरे दिन तक चलेगा. इस दौरान सभी बाजार, दुकान, सेवाएं और संस्थान बंद रहेंगे.
२. चक्का जाम दोपहर 3 बजे तक चलेगा.
3. इस दिन किसान दूध, सब्जी फल आदि कोई उत्पाद बाजार लेकर नहीं जाएंगे.
4. अस्पताल, एंबुलेंस और अन्य अनिवार्य सेवाओं को बंद से मुक्त रखा जाएगा. शादियों के सीजन को देखते हुए शादी से जुड़े सभी कामों को भी छूट दी जाएगी.
5. भारत बंद पूरी तरह शांतिपूर्ण होगा. इसमें किसी भी तरह की तोड़फोड़, हिंसा या जबरदस्ती का कोई स्थान नहीं है.
6. जो भी राजनीतिक दल भारत बंद का समर्थन करना चाहें, उन से निवेदन है कि वो अपना झंडा, बैनर छोड़कर किसानों का साथ दें.

Related Articles

Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 33,563,421Deaths: 446,050